About Jyotisa

Vedic astrology is called the eye of the special contribution from birth to death is considered auspicious astrological moreover

The ancient science of astrology is a science, it is critically related to your life, good and evil by which native, sorrows, favored forbidding, profit loss success, failure, life can get valuable information and facts related to each

Health and disease status of science education in this career, love and Viwahik economic livelihood of all the planets and life partner, etc. are calculated from Nkshtro Dakshana chanting prayers and charity care Awashk Nkshtro planets by tenacity and measures given by them to the worship of the goddess Dewatao The effect is to reduce harm

Our astrology center has over the years been engaged in similar efforts  We have many of the blessings of Goddess Naina Devi Planet, Starlord Kaalsarp dosha, Pitra Dosha, Manglik Dosha and other many  patient is brought to the prevention and further'll be attending all

 

ज्योतिष शास्त्र को वेदों का नेत्र कहा जाता जन्म से लेकर मृत्यु तक ज्योतिष औत मुहूर्त का विशेष योगदान मन जाता है

ज्योतिष शास्त्र बहुत प्राचीन विज्ञान है ये ऐसा सूक्षम शास्त्र है जिसके द्वारा जातक अपने जीवन संबधी शुभ अशुभ, सुख दुःख , इष्ट अनिष्ट, लाभ हानी सफलता असफलता, जीवन के तथ्यों सम्बन्धी हर महतवपूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकता है  

इस विज्ञान से स्वास्थ और रोग शिक्षा करियर आजीविका आर्थिक स्थिति  प्रेम और विवाहिक  सुख जीवन साथी आदि की ग्रहों और नक्षत्रो से गणना की जाती है और आवाशक सावधानी दान दक्षना पूजा जप तप और उपाए द्वारा ग्रहों नक्षत्रो देवी देवताओ की आराधना करके उनके द्वारा दिये जाने वाले अनिष्ट प्रभाव को कम किया जा जाता है

 हमारा  ज्योतिष केंद्र पिछले कई वर्षो से इसी प्रयासों में लगा हुआ है कई सालो से हमने माँ नयना देवी जी की किरपा से बहुत से जातको को ग्रह नक्षत्रो काल सर्प दोष पितृ दोष मांगलिक दोष से निवारण दिलाया है और आगे भी सभी की सेवा में उपस्थित रहेगे